पहली अप्रैल और पर्यावरण / April Fool’s Day या फूलों का दिन?

पहली अप्रैल और पर्यावरण  Fool’s Day या फूलों का दिन? न जाने कब से लोग इस तारीख को ‘अप्रैल-फूल’ के…

Continue Reading →

सरकारी सेवाएँ बनाम निजीकरण

पिछले कई वर्षों से भ्रष्टाचार का मसला जन मानस को व्याकुल किये हुए है। जनता जितनी जागरूक हो रही है,…

Continue Reading →

परीक्षाओं का दौर- बढ़ती व्याकुलता

परीक्षाओं का समय… बच्चों और माता-पिता की बढ़ती व्याकुलता का समय!   मार्च का महीना आने के साथ ही परीक्षाओं…

Continue Reading →

स्त्री-पुरुष विवाद – श्रेष्ठ कौन?

स्त्री-पुरुष के बीच समानता का मुद्दा उठते ही ऐसा लगता है जैसे समाज के दोनों पक्ष तलवार लेकर एक-दूसरे पर…

Continue Reading →

क्विक मनी

  पैसा कमाने की हसरत किसे नहीं होती? सभी चाहते हैं हमारे पास अधिक से अधिक पैसा हो, जिससे हम…

Continue Reading →

वैलेंटाइन / वसंतोत्सव

फ़रवरी का महीना आते ही स्कूल-कॉलेज, बाज़ार, पार्क आदि में वैलेंटाइन सप्ताह मनाने की खुशनुमा शुरुआत हो जाती है। एक…

Continue Reading →

खाप ही खाप

‘हमें भागना ही पड़ेगा, और कोई तरीका नहीं है… नहीं, नहीं ये ठीक नहीं! हम अपने घरवालों को मनाएँगे… कोई…

Continue Reading →

भागाकार – विभाजित हम

कितनी ही वारदातों में पड़ोसियों की लड़ाई आसमान तक को हिला देती है… एक ही क्षेत्र में रहने वाले क्यों…

Continue Reading →

फ़िल्म पद्मावत

कल पद्मावत देखी। देखनी ही थी! आखिर जिस फ़िल्म के कारण इतनी हिंसा हो रही है, जो फ़िल्म अपने विवादों…

Continue Reading →