हैदराबाद पुलिस

हैदराबाद पुलिस– एक चर्चा मेरी नज़र से ————————————————- “बधाई हो, हैदराबाद पुलिस ने तो कमाल कर दिया!” “कमाल? यह असंवैधानिक…

Continue Reading →

बाल दिवस – बचपन या केश?

आज बाल दिवस है… बाल मतलब? ज़ाहिर है, बच्चों का दिन! न कि, काले घने, सुनहरे, रुपहले केशों का दिन!…

Continue Reading →

बेंगलुरु-ऊटी-मैसूर, दोस्तों के साथ…

14 – 18 सितंबरदिल्ली-बेंगलुरु-ऊटी-मैसूर-बेंगलुरु और फिर वापस दिल्ली कुछ अफ़रा तफ़री में ही प्रोग्राम बना, और हम तीन, मैं, ममता…

Continue Reading →

एक थे राम आधार भैया…

वह राम आधार भैया थे! स्कूल के गेट के ठीक सामने चुरमुरे का खोमचा लगाते थे। छुट्टी होते ही लड़कियों…

Continue Reading →

तेज़ाब… (लघुकथा)

अभी एक दिन चित तरंगिणी पत्रिका के फ़ेसबुक पेज पर live आने का अवसर मिला। जहाँ मैंने अपनी एक कहानी…

Continue Reading →

तस्वीर…. (लघुकथा)

“कितनी ख़ूबसूरत हो! तुम्हें तो मॉडल बनना चाहिए! बस, जल्दी से एक अच्छी सी तस्वीर खिंचवाकर भेज दो… मेरे अंकल…

Continue Reading →

दोस्त न रही…

दोस्त न रही… (लघुकथा)    स्कूल से कॉलेज तक मशहूर रही थी उनकी दोस्ती। जहाँ जातीं साथ जातीं… पढ़ाई भी…

Continue Reading →

‘खट्टे-मीठे से रिश्ते” नवीनतम उपन्यास

तीसरा उपन्यास, “खट्टे-मीठे से रिश्ते” जून 2019 में प्रकाशित होकर मार्किट में उपलब्ध हो गया है। प्रकाशन के तुरंत बाद…

Continue Reading →